बीजपी को छोड़कर है किसी पार्टी के नेता में दम जो इस तरह का भाषण दे सके। Yogi Aditynath Viral Video - PM Modi News

बीजपी को छोड़कर है किसी पार्टी के नेता में दम जो इस तरह का भाषण दे सके। Yogi Aditynath Viral Video

Pocket

CM Yogi Adityanath दबंग भाषण !! हैदराबाद में बैठा वो मुल्ला क्या बोलता हे उसकी चिंता मत कीजिये

उत्तरप्रदेश के नए मुख्यमंत्री के रूप में चुने गए योगी आदित्यनाथ का असली नाम अजय सिंह है। उनका जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड में हुआ था, उन्होंने गढ़वाल विश्विद्यालय से गणित में बीएससी किया है। वो गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महंत हैं।

कभी अकबर ने बदला था नाम, इलाहाबाद को 450 वर्षों बाद मिला अपना पुराना नाम

संगम नगरी इलाहाबाद को 450 वर्षों के बाद आखिरकार अपना पुराना नाम वाप‍स मिल गया। कभी मुगल शासक सम्राट अकबर ने इसका नाम बदलकर प्रयागराज से इलाहाबाद (अल्‍लाहबाद) किया था। पुराणों में प्रयागराज का कई जगहों पर जिक्र मिलता है। रामचरित मानस में इलाहाबाद को प्रयागराज ही कहा गया है। कहा जाता है कि वन गमन के दौरान भगवान श्री राम प्रयाग में भारद्वाज ऋषि के आश्रम पर आए थे, जिसके बाद इसका नाम प्रयागराज पड़ा।

cm yogi aditynath pics
cm yogi aditynath pics

मत्स्य पुराण में भी इसका वर्णन करते हुए लिखा गया है कि प्रयाग प्रजापति का क्षेत्र है जहां गंगा और यमुना बहती है। जिस वक्‍त भारत पर मुगलों का शासन था उस वक्‍त की भी कई किताबों और दस्‍तावेजों में इस शहर का जिक्र किया गया है। अकबर ने करीब 1574 में इस शहर में किले की नींव रखी थी। अकबर ने जब यहां पर एक नया शहर बसाया तब उसने इसका नाम बदलकर इलाहाबाद कर दिया था।

paryagraj pics

हिन्दू मान्यता अनुसार, यहां सृष्टिकर्ता ब्रह्मा ने सृष्टि कार्य पूर्ण होने के बाद प्रथम यज्ञ किया था। इसी प्रथम यज्ञ के प्र और याग अर्थात यज्ञ से मिलकर प्रयाग बना और उस स्थान का नाम प्रयाग पड़ा। इस पावन नगरी के अधिष्ठाता भगवान श्री विष्णु स्वयं हैं और वे यहां माधव रूप में विराजमान हैं। भगवान के यहां बारह स्वरूप विध्यमान हैं। जिन्हें द्वादश माधव कहा जाता है। सबसे बड़े हिन्दू सम्मेलन महाकुंभ की चार स्थलियों में से एक है, शेष तीन हरिद्वार, उज्जैन एवं नासिक हैं। हिन्दू धर्मग्रन्थों में वर्णित प्रयाग स्थल पवित्रतम नदी गंगा और यमुना के संगम पर स्थित है। यहीं सरस्वती नदी गुप्त रूप से संगम में मिलती है, अतः ये त्रिवेणी संगम कहलाता है, जहां प्रत्येक बारह वर्ष में कुंभ मेला लगता है।

गुप्‍त से अंग्रेजों के हाथ आने तक 
भारतवासियों के लिये प्रयाग एवं वर्तमान कौशाम्बी जिले के कुछ भाग यहां के महत्वपूर्ण क्षेत्र रहे हैं। यह क्षेत्र पूर्व में मौर एवं गुप्त साम्राज्य के अंश एवं पश्चिम से कुशान साम्राज्य का अंश रहा है। बाद में ये कन्नौज साम्राज्य में आया। 1526 में मुगल साम्राज्य के भारत पर पुनराक्रमण के बाद से इलाहाबाद मुगलों के अधीन आया। अकबर ने यहां संगम के घाट पर एक वृहत दुर्ग निर्माण करवाया था। शहर में मराठों के आक्रमण भी होते रहे थे। इसके बाद अंग्रेजों के अधिकार में आ गया। 1765 में इलाहाबाद के किले में थल-सेना के गैरीसन दुर्ग की स्थापना की थी। 1857 के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में इलाहाबाद भी सक्रिय रहा। 1904 से 1949 तक इलाहाबाद संयुक्त प्रांतों की राजधानी था।

yogi aditynath dabang pics
yogi aditynath dabang pics

आध्‍यात्‍म नगरी है प्रयाग 
प्रयागराज या इलाहाबाद प्राचीन काल से ही आध्‍यात्‍म की नगरी के तौर पर देखा जाता रहा है। आज भी लोगों के मन में इसके लिए अपार श्रद्धा का भाव साफतौर पर दिखाई देता है। जहां तक इसका नाम बदलने का सवाल है तो इसको लेकर पूर्व में कई बार आवाज उठती रही हैं। यूपी चुनाव और लोकसभा चुनाव के दौरान भी इसके नाम बदलने को लेकर मांग उठी थी। उस वक्‍त योगी आदित्‍यनाथ ने वादा किया था कि यदि प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी तो इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज जरूर किया जाएगा। इस बाबत कैबिनेट का ताजा फैसला इसी वादे की पूर्ति है। हालांकि नाम बदलने के बाद इस पर भी राजनीति शुरू हो गई है।

ilahabad pics

फैजाबाद का नाम बदलने की मांग 
यूपी राजस्व परिषद ने उल्लेख किया है कि प्राचीन ग्रंथों में कुल 14 प्रयाग स्थलों का वर्णन है, जिनमें से यहां के प्रयाग का नाम बदलकर इलाहाबाद किया गया, बाकी कहीं भी नाम नहीं बदला गया है। सभी प्रयागों का राजा प्रयागराज कहताला है। इलाहाबाद के बाद संत अब यह भी मांग करने लगे हैं कि फैजाबाद जिले का नाम भी अयोध्या या पौराणिक नाम साकेत पर रखा जाए। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा सुझाव सरकार के सामने आया है। जिस पर जल्द कोई फैसला हो सकता है।

IAS B Chandrakala की फेसबुक पर इतनी जबर्दस्त फैंस फॉलोइंग है, जिन्होंने लाइक्स पाने में PM मोदी और बॉलीवुड के सितारों को भी छोड़ा पीछ

राजनीति का गढ़ 
देश की आजादी से पहले और बाद के कुछ वर्षों तक राजनीतिक गढ़ बना रहा है। इसका भारत की कई बड़ी हस्तियों जिसमें देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का नाम शामिल है, से सीधा संबंध रहा है। उनका बचपन यहीं पर बीता और उन्‍होंने राजनीति का ककहरा भी यहीं पर पढ़ा था। यहां ि‍स्थित आनंद भवन देश में राजनीतिक उतार-चढ़ाव का मूक गवाह आज भी है।

स्वतत्रता आन्दोलन में अहम भूमिका 
भारत के स्वतत्रता आन्दोलन में भी इलाहाबाद की एक अहम भूमिका रही। राष्ट्रीय नवजागरण का उदय इलाहाबाद की भूमि पर हुआ तो गांधी युग में यह नगर प्रेरणा केन्द्र बना। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के संगठन और उन्नयन में भी इस नगर का योगदान रहा है। सन 1857 के विद्रोह का नेतृत्व यहाँ पर लियाकत अली खान ने किया था। कांग्रेस पार्टी के तीन अधिवेशन यहां पर 1888, 1892 और 1910 में जार्ज यूल, व्योमेश चन्द्र बनर्जी और सर विलियम बेडरबर्न की अध्यक्षता में हुए। महारानी विक्टोरिया का 1 नवम्बर 1858 का प्रसिद्ध घोषणा पत्र यहीं स्थित ‘मिंंटो पार्क’ में तत्कालीन वायसराय लॉर्ड केनिंग द्वारा पढ़ा गया था।

चंद्रशेखर आजाद यहीं हुए थे शहीद 
उदारवादी व समाजवादी नेताओं के साथ-साथ इलाहाबाद क्रांतिकारियों की भी शरणस्थली रहा है। चंद्रशेखर आजाद ने यहीं पर अल्फ्रेड पार्क में 27 फ़रवरी 1931 को अंग्रेजों से लोहा लेते हुए ब्रिटिश पुलिस अध्यक्ष नॉट बाबर और पुलिस अधिकारी विशेश्वर सिंह को घायल कर कई पुलिसजनों को मार गिराया औरं अंततः ख़ुद को गोली मारकर आजीवन आजाद रहने की कसम पूरी की। 1919 के रौलेट एक्ट को सरकार द्वारा वापस न लेने पर जून, 1920 में इलाहाबाद में एक सर्वदलीय सम्मेलन हुआ, जिसमें स्कूल, कॉलेजों और अदालतों के बहिष्कार के कार्यक्रम की घोषणा हुई, इस प्रकार प्रथम असहयोग आंदोलन और ख़िलाफ़त आंदोलन की नींव भी इलाहाबाद में ही रखी गयी थी।

कन्हैया कुमार का नरेंद्र मोदी के ऊपर तीखे बोल, बोले- मोदी जी इस डील की सच्चाई सैनिकों को ही बता देते

You May Also Like

doctor ne nahi lagaya injection

20 रु. के लिए डॉक्टर नहीं लगाया इंजेक्‍शन, मां मांगती रही भीख और हो गई मासूम की मौत

doctor ne nahi lagaya injection  :- जि‍ला अस्‍पताल स्‍टाफ ने इलाज के दौरान इंजेक्शन के लि‍ए एक बच्‍चे की मां ...
Read More
pakistanis don't have money to eat pulses-1

Pakistanis: पाकिस्तानियों के पास दाल खाने के भी नहीं हैं पैसे, दे रहे युद्ध की धमकी

Pakistanis don't have money to eat pulses :-पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था धराशायी हो चुकी है और वहां के लोग आसमान छूती ...
Read More
bihar teacher vacancy 2019

Bihar Teacher Vacancy 2019: 1.4 lakh vacancies of teachers in Bihar

Bihar Teacher Vacancy 2019: The Bihar government will complete the process of filling vacancies of teachers till November. According to ...
Read More
download super 30

Download Super 30 Full Hindi Movie – Hrithik Roshan

Download Super 30 full hindi movie :- कंगना रनौत की फिल्म क्वीन से विकास बहल जबरदस्त सुर्खियां बटोरने में कामयाब ...
Read More
ind vs nz dhoni run out

अंपायर की इस गलती से सेमीफाइनल में हारा भारत, विवादों में आया धोनी का रनआउट

Umpiring error cost dhoni :- सांस थाम देने वाले पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर टीम इंडिया विश्व कप 2019 ...
Read More
india loss semifinal

IND vs NZ Semifinal: इन चार ‘बड़े कारणों’ के चलते हुई भारत की सेमीफाइनल में हार

India loss semifinal : किसी  ने भी ऐसी उम्मीद नहीं की थी कि इस नॉकआउट मुकाबले में भारत का प्रदर्शन ...
Read More
gb road red light area

GB Road Girls Rate | GB Road Delhi | GB Road Live Video

GB Road Girls Rate :-रात 8 बजे के बाद G B Road का माहौल बदल जाता है. कोठे पर आने वालों ...
Read More
zealand-cricket-world-cup-semi-final-india

न्यूजीलैंड के गेंदबाजी कोच का बयान वायरल, कहा- भारतीय मिडिल ऑर्डर को ध्वस्त कर देंगे

भारत और न्यूजीलैंड  के बीच खेले जा रहे विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में बारिश ने खलल डाल दिया, जिसके कारण ...
Read More
Semifinal IND vs NZ

Semifinal IND vs NZ : बारिश ने रोक दिया खेल, जानें- अब कैसे निकलेगा मैच का नतीजा

Semifinal IND vs NZ :- आज बारिश नहीं थमी और मैच पूरी नहीं हो पाया. ऐसे में अब बुधवार को ...
Read More
india vs new zealand

अगर बारिश के कारण भारत-न्यूजीलैंड सेमीफाइनल रद्द हुआ तो ये ‘दो विकल्प’ होंगे

India vs New Zealand Semifinal: हिंदुस्तानी और कीवी क्रिकेटप्रेमी अपनी-अपनी टीमों की चर्चा भी कर रहे हैं. अपनी-अपनी पसंदीदा इलेवन ...
Read More

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *