December 25 special on Christmas : शांति के राजकुमार ईसा

Pocket

क्रिसमस शांति का भी संदेश लाता है। पवित्र शास्त्र में ईसा को ‘शांति का राजकुमार’ नाम से पुकारा गया है। ईसा हमेशा अभिवादन के रूप में कहते थे- ‘शांति तुम्हारे साथ हो।’ शांति के बिना कोई भी धर्म का अस्तित्व संभव नहीं है। घृणा, संघर्ष, हिंसा एवं युद्ध आदि का धर्म के अंतर्गत कोई स्थान नहीं है।

क्रिसमस संपूर्ण विश्व का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। क्रिसमस सभी राष्ट्रों एवं महाद्वीपों में मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र संघ के आंक़ड़ों के अनुसार विश्व के करीब 150 करोड़ लोग ईसाई धर्म के अनुयायी हैं। सौभाग्यवश भारत में भी क्रिसमस मनाया जाता है यद्यपि यहां की जनसंख्या के केवल 2.5 प्रतिशत ईसाई लोग हैं।
isa masih image
isa masih image
ईसा के बारह शिष्यों में से एक, संत योमस, ईस्वी वर्ष 52 में दक्षिण भारत आए थे। योमस सुतार का धंधा करते थे और उन्होंने दक्षिण भारत के कुछ प्राचीन राजाओं के महल में भी कार्य किए थे। अपने कामों के साथ-साथ योमस ईसा के सुसमाचार का प्रचार भी करते थे और उन्होंने कई चमत्कारी कार्य भी किए। इन सबसे प्रभावित होकर कुछ ब्राह्मणों ने ईसाई धर्म ग्रहण किया।
इसी कारण दक्षिण भारत में कई पुराने गिरजाघर देखने को मिलते हैं। मेरे स्वयं के गांव में करीब एक हजार वर्ष पुराना एक गिरजाघर है। लोगों में यह भ्रांति फैली हुई है कि ईसाई धर्म एक विदेशी धर्म है। जब यह धर्म प्रथम शताब्दी से ही भारत में मौजूद रहा है तो इसे विदेशी धर्म मानने का क्या औचित्य है?
अधिकांश लोग यह समझते हैं कि भारत में ईसाई धर्म विदेशी मिशनरियों द्वारा लाया गया है। यह पूर्णरूपेण गलत है यद्यपि पुर्तगाल, स्पेन, फ्रांस, इंग्लैंड, जर्मनी, इटली आदि राष्ट्रों से मिशनरी लोग चौदहवीं शताब्दी से भारत में आए हैं और सुसमाचार का प्रचार किया है। ईसाई धर्म प्रारंभ से ही प्रेम, शांति, क्षमा, त्याग एवं दूसरों की सेवा आदि सिद्धांतों पर विशेष ध्यान देता आया है।
isa masih photo
isa masih photo
ईसा का जन्म मानव के प्रति परमेश्वर के प्रेम को प्रकट करता है। बाइबल पवित्र शास्त्र में स्पष्ट लिखा है कि ईश्वर प्रेम है और मानव के प्रति ईश्वर के अपार प्रेम के कारण ही उन्होंने अपने एकलौते पुत्र को जगत में भेजा। ईसाई धर्म में ईश्वर के तीन स्वरूप बताए गए हैं- पिता, पुत्र एवं पवित्र आत्मा। यह त्रिएक परमेश्वर सृष्टि के प्रारंभ से ही एकसाथ अस्तित्व में है, परंतु 2000 वर्ष पूर्व ईसा मसीह ने (परमेश्वर के पुत्र) मनुष्य के रूप में पृथ्वी पर जन्म लिया। पवित्र शास्त्र कहता है- ‘परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करें, वह नष्ट न हो, परंतु अनंत जीवन पाए।’ (यूहन्ना रचित सुसमाचार 3:16)।
ईश्वर ने मानव को स्वयं के स्वरूप में रचा, परंतु मानव पाप करके ईश्वर से दूर भटक गए। इसी खोई हुई मानव जाति को वापस अपने पास लाने के लिए ईश्वर ने ईसा मसीह को मानव के रूप में जगत में भेजा। मानव जाति की सृष्टि के बारे में पवित्र शास्त्र में लिखा है- ‘परमेश्वर ने मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार उत्पन्न किया, नर और नारी करके उसने मनुष्यों की सृष्टि की।’
मानव ईश्वर की सृष्टियों में सर्वश्रेष्ठ है। ईश्वर मानव से प्रेम रखता है और यही चाहता है कि मानव उसकी संगति एवं निकटता में रहे। अदन की वाटिका में परमेश्वर आदम तथा हव्वा के साथ संगति रखते थे, परंतु इन दोनों ने ईश्वर की आज्ञा का उल्लंघन करके पाप किया। इस प्रकार ईश्वर और मानव के बीच एक खाई उत्पन्न हुई। इस खाई को दूर कर मानव को वापस अपने निकट लाने के लिए परमेश्वर ने अपने पुत्र ईसा मसीह को मानव के रूप में जगत में भेजा। यह लूका रचित सुसमाचार के पंद्रहवें अध्याय में लिखा हुआ उडाव पुत्र की कहानी से मिलता-जुलता है।
isa masih
isa masih
उडाव पुत्र अपने पिता का दिल तोड़कर अपना हिस्सा लेते हुए घर से निकल गया, परंतु पिता उससे निरंतर प्रेम करता रहा और उसके लौटने का इंतजार करता रहा। इसी प्रकार परमेश्वर भी प्रत्येक मानव के उनकी ओर लौटने का इंतजार करता रहता है। ईसा मसीह जब पृथ्वी पर रहे, अपने साथ चलने एवं कार्य करने के लिए बारह शिष्यों को चुना। उन्होंने उनको यह सिखाया कि आपस में प्रेम रखें। निःस्वार्थ प्रेम ही ईसाई धर्म का पहला सिद्धांत है।
क्रिसमस शांति का भी संदेश लाता है। पवित्र शास्त्र में ईसा को ‘शांति का राजकुमार’ नाम से पुकारा गया है। ईसा हमेशा अभिवादन के रूप में कहते थे- ‘शांति तुम्हारे साथ हो।’ शांति के बिना कोई भी धर्म का अस्तित्व संभव नहीं है। घृणा, संघर्ष, हिंसा एवं युद्ध आदि का धर्म के अंतर्गत कोई स्थान नहीं है। ईसा के जन्म के समय स्वर्गदूतों ने गाया- ‘आकाश में परमेश्वर की महिमा और पृथ्वी पर उन मनुष्यों में जिनसे वह प्रसन्न है, शांति हो।
शांति एवं सद्भावना ईसाई धर्म के बुनियादी आदर्श हैं। पहाड़ी उपदेश के दौरान ईसा ने कहा- ‘धन्य हैं वे जो मेल कराने वाले हैं, क्योंकि वे परमेश्वर के पुत्र कहलाएंगे। (मत्ती 5.9)। धार्मिक कट्टरपंथ, पूर्वाग्रह, घृणा एवं हिंसा कोई भी धर्म का आधार नहीं बन सकता है।
The Death of Hazarat Isa al-Masih
The Death of Hazarat Isa al-Masih
दूसरों की गलतियों को माफ करना ईसाई धर्म का एक अन्य महत्वपूर्ण सिद्धांत है। ईश्वर के निकट जाने के लिए दूसरों की गलतियों को हृदय से माफ करना नितांत आवश्यक है। ईसा ने अपने अपराधियों को क्षमा किया है, वैसे ही तू भी हमारे अपराधों को क्षमा कर। (मत्ती 6.12) ईसा के अनुसार दूसरों को माफ करने के लिए कोई शर्त नहीं रखी जाना चाहिए।
त्याग एवं सेवा की भावना भी ईसा की शिक्षा के मुख्य भाग रहे हैं। ईसा के कुछ चेले जैसे पतरस, याकूब, यूहन्ना आदि मछुवारे थे और उनके काम के स्थान से ही यीशु ने उन्हें बुलाए थे। यीशु ने कहा- ‘मेरे पीछे चलो, मैं तुम्हें मनुष्य को पकड़ने वाला बनाऊंगा।’ दूसरे शब्दों में ईसा ने उनको इसीलिए बुलाया कि उनके द्वारा अन्य मनुष्यों के जीवन में सुधार हो सके। जब यीशु ने उन्हें बुलाया तो वे सब कुछ छोड़कर उनके पीछे हो लिए। सांसारिक संपत्ति और वस्तु ईसा के पीछे चलने में बाधा नहीं बनना चाहिए।
यीशु ने अपने शिष्यों से कहा- कोई अपने आपको इंकार करने और अपना क्रूस उठाने में असमर्थ है तो वह मेरे योग्य नहीं है। ईसा के अनुसार उनके अनुयायियों को दुःख उठाने एवं यहां तक कि अपने प्राण त्याग के लिए भी सर्वदा तैयार रहना चाहिए। इसीलिए कहा- ‘शहीदों का रक्त ही कलीसिया का बीज है।’
क्रिसमस का शुभ संदेश वर्तमान जगत के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि आज सपूर्ण विश्‍व स्वार्थ, घृणा, हिसा, शोषण, उत्पीड़न, भ्रष्टाचार, युद्ध आदि से भरा है। क्रिसमस का शुभ संदेश हमारे दिलों में प्रेम, शांति, क्षमा एवं सेवा की नई ज्योति जलाते हैं।

You May Also Like

bihar teacher vacancy 2019

Bihar Teacher Vacancy 2019: 1.4 lakh vacancies of teachers in Bihar

Bihar Teacher Vacancy 2019: The Bihar government will complete the process of filling vacancies of teachers till November. According to ...
Read More
download super 30

Download Super 30 Full Hindi Movie – Hrithik Roshan

Download Super 30 full hindi movie :- कंगना रनौत की फिल्म क्वीन से विकास बहल जबरदस्त सुर्खियां बटोरने में कामयाब ...
Read More
ind vs nz dhoni run out

अंपायर की इस गलती से सेमीफाइनल में हारा भारत, विवादों में आया धोनी का रनआउट

Umpiring error cost dhoni :- सांस थाम देने वाले पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर टीम इंडिया विश्व कप 2019 ...
Read More
india loss semifinal

IND vs NZ Semifinal: इन चार ‘बड़े कारणों’ के चलते हुई भारत की सेमीफाइनल में हार

India loss semifinal : किसी  ने भी ऐसी उम्मीद नहीं की थी कि इस नॉकआउट मुकाबले में भारत का प्रदर्शन ...
Read More
gb road red light area

GB Road Girls Rate | GB Road Delhi | GB Road Live Video

GB Road Girls Rate :-रात 8 बजे के बाद G B Road का माहौल बदल जाता है. कोठे पर आने वालों ...
Read More
zealand-cricket-world-cup-semi-final-india

न्यूजीलैंड के गेंदबाजी कोच का बयान वायरल, कहा- भारतीय मिडिल ऑर्डर को ध्वस्त कर देंगे

भारत और न्यूजीलैंड  के बीच खेले जा रहे विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में बारिश ने खलल डाल दिया, जिसके कारण ...
Read More
Semifinal IND vs NZ

Semifinal IND vs NZ : बारिश ने रोक दिया खेल, जानें- अब कैसे निकलेगा मैच का नतीजा

Semifinal IND vs NZ :- आज बारिश नहीं थमी और मैच पूरी नहीं हो पाया. ऐसे में अब बुधवार को ...
Read More
india vs new zealand

अगर बारिश के कारण भारत-न्यूजीलैंड सेमीफाइनल रद्द हुआ तो ये ‘दो विकल्प’ होंगे

India vs New Zealand Semifinal: हिंदुस्तानी और कीवी क्रिकेटप्रेमी अपनी-अपनी टीमों की चर्चा भी कर रहे हैं. अपनी-अपनी पसंदीदा इलेवन ...
Read More
rrb paramedical exam details

RRB Paramedical Exam Details: Details of RRB Paramedical Examination will be issued today

RRB Paramedical Exam Details :- Every information related to the RRB Paramedical Recruitment Examination will be released on the website of ...
Read More
india vs new zealand semi final match

महामुकाबला आज, न्यूजीलैंड की इस तिकड़ी से बच गई टीम इंडिया तो फाइनल का टिकट पक्का

Ind vs Nz semi final Match :-टीम इंडिया को इस मैच में जीत हासिल करनी है तो विराट ब्रिगेड को ...
Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *